Suhel Farooq Khan

ख़बरदार हो जाओ बेशक यही लोग फसादी हैं लेकिन समझते नहीं